Human Rights Violations – Victims of Asaram Bapu from Newspapers & TV clippings & Real court documents www.SlaveCult.com

October 28, 2008

आसाराम बापू संत वंत नहीं बैंक है पहले तो सिर्फ़ ब्याज पे देता था अब बाटने के चकर में है क्योंकि धंधे में डेंट है

आसाराम ने जनता कम होती देख एक नया पेंतरा फेंका

जोधपुर में गरीब लोगो को अपनी नौटंकी में आकर नोट लेजाओ का न्योता भेजा 

जनता फिर भी बहुत कम जुटी 

पड़े लिखों की भीड़ कम देख आसाराम की ऑंखें रह गयी फट्टी

एक आदमी आया था वहां सोच कर मिलेगी यहाँ रोटी 

पर  आसाराम  ने एक ही मिनट में करदी बाटने वाली दुकान की छुटी 

कहाँ सारे सारे दिन के प्रोग्राम के पोस्टर चप्वाता  

अब तो नोट बटने के न्योते पर भी कोई नहीं आता 

अगर बिना कैमरा के सामने कोई आदमी रोटी लेजाता 

फिर अपनी ही बनाई गूंडा सेना से उसकी पिटाई करवाता 

अपना रॉब ज़माने के लिए एक ६० साल के आदमी की उठक बैठक करवाता 

दुनिया भर के सामने किसी भी आदमी को पिटवाता 

यही हाल है उसका जो इसके आश्रम से नहीं निकल पाता

सालों से बंद है इसके आश्रम में चाह कर भी माँ को माँ नहीं बुला पाता

नयी पीड़ी भी आने वाली थी इसके चकर में 

लोगो के खून और पसीने को आसाराम डकार जाता है 

कैमरे के सामने नोट बटने के लिए नोटों की गढिया लहराता है 

पर पुराने कितने ही कम करने वालों ने  इस पर केस ठोक रखें है 

उनके सालों के परिश्रम के वेतन दबाकर रोक रखें है 

बाप बेटा 5,000 रुपी बाँट कर 4 करोड़ एक दिन में कमा लेते हैं 

अमीर लोग अंधविश्वास में आसाराम को करोडो रुपए दे देते हैं 

पर अब जब से आसाराम की खुली है पोल 

आसाराम का दिमाग हो गया है डावांडोल 

हमारी साईट हर आदमी खुल कर देखने आत्ता है 

पर आसाराम का पर्चारक चुम्चा चुप चाप कर अपनी खुली पोल पड़ कर चला जाता है 

आसाराम को हमारी ख़बर सुन कर थरथराता है 

अपनों ने ही उसकी पोल खोल दी सोच सोच कर घबराता है

अगर अजय को उसकी माँ के पास बेझ दिया तो वोह क्या पोल खोलेगा इससे आसाराम घबराता है 

एक माँ ने बोला था मेरा बेटा भेज दो मेरा बुरा हाल है 

पर आसाराम ने बोला यह साजिश है क्रिस्टियन  इसाई मिशनरी की चाल है 

अरे माँ क्रिस्चियन नहीं पंडत है, बेटा माँ का अंग है 

हर परिवार जिसने अपना बेटा तेरे झांसे में खोया है तुझसे तंग है 

अब यह तो दिख ही गया है आसाराम संत वंत नहीं कंस है.

 

This is real incident of jodhpur on 25 th nov 2008 & story was relayed by major TV chancels in India.

Story has been written by ex inmate of asaram jail.

The video of the person who was beaten & was told to do uthak baithak like this is police station. asaram is judge. Same way asaram had ordered his ex security guards to murder number of people. His son’s current securit y guard was told by father son duo to murder Mr. Mahender Chawla of panipat.

These are tales of people which you have seen with your eyes, but as ex inmate we have witnessed criminal activities of asaram every single day. Each individual you see in asaram factory was hired by luring but then was told to sign a document, if you don’t do it then they beat you and person lives under fear.

 

Asaram ashrams are jail where rapes, sexual exploitation is common in front of hundreds of people but even witnesses will keep quite. As we are told by asaram when we used to speak truth about criminal activities inside his ashram among ourslef, or even now when truth comes out of his ashram , asaram prints in his magazine to lure his disciples that ::::  sant ka nindak maha hatyara, sant ka nindak ko parmeshwar maar deta hai.   But here We are alive & happy since we are out, because asaram is not a sant he is exploiter who uses people to make his Dhoop Agarbattis and other products then exploits us to sell them. All is done in the name of religion, thousands of crores is hidden in ashrams in cash in tires, and in underground tehkhanas of number of ashrams.

 

Video coming soon.

1 Comment »

  1. सांई लीलाशाह ने इसे भगाया
    आहमदाबाद को इसने ठिकाना बनाया।
    इसकी बीवी बहुत घबराई
    जब उसकी बहुत सी सौतन आई।
    इसकी मां को खुशी हो आई
    जब उसके घर सैंकडों बहुरानी आई।

    Comment by Raghubeer bhai - ex inmate — November 3, 2008 @ 6:50 am | Reply


RSS feed for comments on this post. TrackBack URI

Leave a Reply

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Blog at WordPress.com.

%d bloggers like this: