Human Rights Violations – Victims of Asaram Bapu from Newspapers & TV clippings & Real court documents www.SlaveCult.com

January 14, 2009

on Lohri asaram bus was burnt and it was sign that people want to burn evil asaram

રિક્ષાને અડફેટે લેનાર આસારામ આશ્રમની બસ સળગાવી દેવાઈ

asaram bus burnt as killer asaram is still out of jail

asaram bus burnt as killer asaram is still out of jail

 

 

 

 

સ્કૂલરિક્ષાને ટક્કર મારતાં ત્રણ બાળકો ઘાયલ : સાધક કરમચંદ શર્માની ધરપકડ

સાબરમતી પાસેના ચીમનભાઈ ઓવરબ્રિજ ખાતે આસારામ આશ્રમની લકઝરી બસે એક

સ્કૂલ ઓટોરિક્ષાને ચગદી નાખતાં રોષે ભરાયેલા લોકોએ બસને આગ ચાંપી દીધી હતી.

લોકોનો રોષ જોઈને બસનો ચાલક અને આસારામનો સાધક કરમચંદ ભોપાલારામ શર્મા નાસી છૂટયા હતા, જો કે પાછળથી સાબરમતી પોલીસે તેની ધરપકડ કરી હતી. અકસ્માત સમયે સ્કૂલ ઓટોમાં ૬ બાળકો બેઠાં હતાં. જે પૈકીના ત્રણ ઘાયલ થતાં તેમને હોસ્પિટલમાં ખસેડાયાં હતાં.

 

 

ઘટનાની હકીકત એવી છે કે ગત તા.૧૧મી જાન્યુઆરીથી મોટેરા ખાતેના આસારામ આશ્રમમાં શિબિર ચાલી રહી છે. બહારગામથી હજારોની સંખ્યામાં ભકતો આવતા હોવાથી આશ્રમમાં છેલ્લાં ૧૨ વર્ષથી સાધક તરીકે રહેતો અને પાંચેક વર્ષથી આશ્રમની બસ ચલાવતો કરમચંદ ભોપાલારામ શર્મા (મૂળ રહે: ઉડસાઈ, હિમાચલ પ્રદેશ) બસ લઈને એસ.ટી. અને રેલવેસ્ટેશને ઊતરતાં સાધકોને લેવા માટે મંગળવારે સવારે આશ્રમેથી નીકળ્યો હતો.

લગભગ સાડાસાત વાગ્યાના અરસામાં તે ચીમનભાઈ ઓવરબ્રિજ ઊતરી રહ્યો હતો ત્યારે તેણે બસ પરનો કાબૂ ગુમાવ્યો હતો અને આગળ જતી એક સ્કૂલરિક્ષાને અડફેટે લીધી હતી. ટક્કર એટલી જોરદાર હતી કે સ્કૂલરિક્ષા બસના આગળના ભાગે ફસાઈ બસની સાથે છેક બ્રિજના છેડા સુધી ઢસડાઈ હતી. રિક્ષામાંથી બાળકોની ચીસો સાંભળીને રાહદારીઓ રોકાઈ ગયા હતા અને રિક્ષામાંથી ત્રણ સગાં ભાઈ-બહેનો પાયલ ભરત બારોટ ( ઉં.વ. ૯), ખુશી (ઉં.વ.૭) અને રાહુલ (ઉં.વ. ૫)ને લોહીલુહાણ હાલતમાં સારવાર માટે શાહીબાગ ખાતની કોઠારી હોસ્પિટલમાં ખસેડયા હતા.

બીજી બાજુ સ્થળ પર લોકો એકત્ર થતાં પરિસ્થિતિ તંગ બની ગઈ હતી. હજી તાજેતરમાં જ આશ્રમમાં રહેતા માસૂમ ભાઈઓ દીપેશ અને અભિષેકનાં રહસ્યમય મોતનો કિસ્સો યાદ આવી જતાં લોકોમાં રોષ ભભૂકી ઊઠયો હતો અને તેમણે આસારામની બસને આગ ચાંપી દીધી હતી.

આસારામની બસ સળગાવી દેવામાં આવી છે તેવા સમાચાર કંટ્રોલરૂમ પરથી પ્રસારિત થતાં શહેર પોલીસ કમિશનર ઓ.પી. માથુર, ડીસીપી એસ.એમ. કટારા સહિતના ઉચ્ચ પોલીસ અધિકારીઓ સ્થળ પર ધસી આવ્યા હતા અને સ્થિતિ અંકુશ હેઠળ લીધી હતી. સ્થિતિ વણસે નહીં તે માટે અડાલજ પોલીસે આસારામ આશ્રમ પર બંદોબસ્ત ગોઠવી દીધો હતો.

સ્કૂલરિક્ષાના ચાલક જિતેશકુમાર વસંતલાલ મિસ્ત્રી (ઉં.વ. ૨૮, રહે: મુકેશ રોહાઉસ, બાપુનગર)એ આ બાબતે સાબરમતી પોલીસ મથકે ફરિયાદ નોંધાવતાબસના ચાલક કરમચંદ શર્માની ધરપકડ કરાઇ છે. સાબરમતીના ઇન્સ્પેકટર મૌલેશ જોશીએ જણાવ્યું હતું કે, બસને આગ લગાડનાર ટોળા સામે બસના ચાલક કરમચંદ શર્માએ પણ ફરિયાદ આપતાં તેમની પણ ધરપકડનાં ચક્રો ગતિમાન કરાયાં છે.

એકસલ તૂટી હોવાનો મને ખ્યાલ નથી : રિક્ષાચાલક જિતેશભાઈ

જિતેશભાઈએ જણાવ્યું હતું કે, તે નારણપુરા ખાતેની મીરામ્બિકા સ્કૂલનાં બાળકો માટે સ્કૂલવધa રિક્ષા હંકારે છે. મંગળવારે સવારે તે શાહપુર દરવાજા બહાર રહેતા ભરતભાઈ બારોટનાં બાળકો- ૪થા ધોરણમાં ભણતી પાયલ, બીજા ધોરણમાં ભણતી ખૂશી અને ૧લા ધોરણમાં ભણતા રાહુલ-ને લઈને શાહીબાગ આવ્યો હતો. ત્યાંથી તેણે કપાલી અને પરલીને લીધાં હતાં. ત્યારબાદ તે ધર્મનગર ગયો હતો અને મંથનને લીધો હતો. તે પછી તે નવાવાડજમાં જયનમ અને રિયાને લઈને મીરામ્બિકા સ્કૂલે જવાનો હતો, પરંતુ ચીમનભાઈ બ્રિજ ઊતરતો હતો ત્યારે પાછળના ભાગેથી તેને જોરદાર ધડાકો સંભળાયો હતો. તેણે કહ્યું હતું કે રિક્ષાની એકસલ તૂટી હોવાનો તેને ખ્યાલ નથી.

રિક્ષાની એકસલ તૂટી જતાં બસમાં આવી ગઈ

બસચાલક કરમચંદે તેની ફરિયાદમાં જણાવ્યું છે કે તેની બસની આગળ એસ.ટી. બસ હતી. રિક્ષાના આગળના વ્હીલની એકસલ નીકળી જતાં તે ડાબી બાજુ ખેંચાઈ હતી અને બસમાં આવી ગઈ હતી.

બસને બહારથી આગ લગાડાઈ : એફએસએલ

એફએસએલનાં સૂત્રોએ જણાવ્યું હતું કે, બસને બહારના ભાગેથી આગ લગાડવામાં આવી છે. આગ બસમાં એન્જિનના ભાગેથી નથી લાગી. આ આગ લગાડાઈ છે. પરિક્ષણ બાદ કયું જલદ્ પ્રવાહી વપરાયું છે તે સ્પષ્ટ થશે.

 

 

 

http://www.divyabhaskar.co.in/2009/01/14/0901140149_people_due_to_accident.html

November 20, 2008

आसाराम अब एक पागल आवारा कुते की तरह गलियों में घूम रहा है और बिचारे ग़रीब लोग जो उसके अंधविश्वास में फँसे हुए है उनपर भोंक रहा है

आसाराम अब एक पागल आवारा कुते की तरह गलियों में घूम रहा है और बिचारे ग़रीब लोग जो उसके अंधविश्वास में फँसे हुए है उनपर भोंक रहा है. आसाराम ने अभी तक ना तो बचो की हत्या में पुलिस को अपने साधको का नारको टेस्ट होने दिया और ना ही इसने अपने बेटे नारायण को मुंबई पुलिस के पास भेजा ताकि महेंदर चावला वाली कंप्लेंट में उसके बेटे की जाँच हो सके. आसाराम के बेटे पर वैसे तो 70 से ज़यादा मामले धोकाधड़ी के चल रहे है जिन पर यह अपने आश्रम से दो साधक और दो समिति के लोगो को भेज कर मामले को सुल्ताने की कोशिश करता है.    आसाराम यह भूल गया की सद्दाम हूसेन, मुसहरफ, हिट्लर सब का अंत बुरा हुआ था तो यह आसाराम का भी अब अपने पापों की सज़ा पाने का वक्त है. होनी को असाराम अपनी चतुराई से अब ताल बहिन सकता.   हत्या एक घिनोना अपराध है और वो भी लोगो में अपने आप को तांत्रिक सीध करने के लिए ?   मा को बेटा से अलग करना एक अमानवीय मानसिकता है ताकि वो बचे इसके आश्रम में काम करते रहें.     टीवी पर आकर अपनी चतुराई से जवाब देना एक बात है पर आसाराम का काला चहरा और काली कर्तुते दिँया के सामने आ ही जाती है.   आज भी बलात्कार के केस आसाराम पर चल रहे हैं.    आज भी अभिषेख और दीपेश वगेला की हत्या का मामल चल रहा है और आसाराम हर कोशिश कर रहा है की वो किसी तरह से बच जाए पर आसाराम यह भूल गया की हर आदमी आसाराम की तरह कुता नहीं होता. कोई भी मा आसाराम को अपने बछहे के पास नहीं आने देना चाहती कोई भी बाप नहीं चाहता की उसकी बेटी आसाराम के चंगुल में फँस जाए और फिर  मा बाप 14 सालो तक आसाराम से अपने बचे को छुड़ाने की हिम्मत करें.  रोंगटे खड़े हो गये लोगो के जब आसाराम का काला चहरा सामने आया की मा को दुनिया के सामने फरियाद करनी पद रही है अपने बेटे को छुड़वाने के लिए और आसाराम राजनीतिक बयान बाजी कर बेटे को अपना चेला बना कर आश्रम में रखे हुए है.   आसाराम एक घटिया जाती का जानवर है जिसको एक मा की फरियाद  नहीं सुनाई दी पर अपने बेटे को जैल में जाने से बचाने के च्कर में 13 करोड़ रुपये बाँटने पड़े.  

 

 अभी तो आसाराम के कितने ही और भी काले कारनामे सामने आने बाकी है. कृपया कर इस वेबसाइट को अपने फेव्रिट लिंक में डाल ले और दुबारा आएँ और अपने दोस्तो को बताएँ ताकि वो अपने प्रियजानो को आसाराम से बचा सके.    माता पिता अपने बचो के लिए सपने सिजोता है पर आसाराम ने अपने आश्रम में काम करवाने के च्कर में उनकी ज़िंदगी बर्बाद कर देता है.

 

आसाराम अपने भाषण जो दुनिया को बेवकूफ़ बनाने के लिए करता है उनमे आसाराम गाय को गाय माता कहता है पर पर्दे के पीछए अपने साधको को अपनी मा का कत्ल करने को कहता है ताकि उन बचो की मा आश्रम से अपने बचो को वापिस ना ले जा सके और आसाराम अपने आतंक फैलाने की कोशिश में लगा रहे. गाय बचाने के च्कर में यह लोगो से पैसे वसूलता है और साथ ही ज़मीन भी फ़ोकट में घेर लेता है अब उस ज़मीनों पर आश्रम बना कर और बचो को आतंक की शिक्षा देता है. कहता है मुसलमान और मिशनरी लोग हुमारे दुश्मन है. जबकि मुसलमान और क्रिस्चियन का आसाराम से कोई लेना देना नहीं होता लोगो में भय फैलने के च्कर में आसाराम आम आदमी के जीवन को ख़तम कर देता है ताकि यह अपनी राजनीति धरम के नाम पर कर सके

November 3, 2008

आसाराम बापू के बाल संस्कार केन्द्र का भांडा फोड़

भाई पाक से भारत आ कर आसाराम ने क्या खूब कितना पैसे कमाया
क्या दौलट क्या हीरे क्या मोती दुनिया को लूट पाट कर बेवकूफ़ बनाया
दुनियाभर में बदनामी हो गयी इसकी, पर पाखंडी की आदत ना छूटी
डूब मरता अपमानित हो कर अगर लज्जा होती, और भेज देता बचो को घर जिनकी है किस्मत फूटी
आसाराम का बच्चो को फसाने का नया षडयंत्र केंद्र
अंधविश्वासी अंधे लोगो को खोल दिए है बाल संस्कार केन्द्र
जो खुद आसाराम के अंधवाश्वास में फँसे हैं वो इसके बाल संस्कार केन्द्र चलाएँगे
जो सारी ज़िंदगी खुद एक ढोंगी के च्कर में फसे रहे वो बचो को असारमायण पड़ौएँगे
रामायण तो गयी अब तेल लेने, असारमायण ने अपनी ही असारमायण बनाई है
हिंदू धरम के ठेकेदारो ने वोटो के चकर में असाराम्यन पर भी मोहर लगाई है
जब आश्रम बंधक के मा बाप के मरने का संदेशा आता है असाराम एक नई प्रॉपर्टी क हिसेदर बनता देख फूला नहीं समाता है
फटाफट अपनी एक बड़ी फोटो और गुरु दीक्षा की किताबे उनके घर भिजवाता है
कोई प्रॉपर्टी को दान में अड़चन ना डाले इसके लिए हर आश्रम बंदी से एक कोरे काग़ज़ पर दस्तख़त करवाता है
आसाराम बापू के बाल संस्कार केन्द्र का भांडा फोड़
होनहार बचो को बोलता है आश्रम में क़ाम कर मा बाप को छोड़
कितनो के बचे आश्रम में मरे नहीं है कोई लेखा झोका
हिंदू समाज अभी भी सो रहा था असाराम को आग में नहीं था झोंका
धीरे धीरे हिंदू समाज जाग रहा है असाराम की फोटो और पोस्टर फाड़ रहा है
सरकारी कर्मचारी जो था लाचार , लगा रखी थी उसने अपने ऑफीस में फोटो असाराम की , पर अब लगा दी है उसने भी सीता और राम की
अनपड़ और गँवार लोग अब भी कर रहे हैं असाराम का प्रचार
शक्ति प्रदर्शन कर आम आदमी पर ज़बरदस्ती ढा आहे है अत्याचार
अरे तुमको आसाराम और अपने घर वालों का करना है व्यभिचार
तो तुम चले जाओ आसाराम के आश्रम की काल कोठरी में और भेज दो उन मा बाप के बचो को जिनके मा बाप है लाचार और मीडीया में लगाई है गुहार
बचो को अपने अनुकूल करने और अपनी फोटो पूजवने का ही नाम बाल संस्कार है
आश्रम में बचो की हत्या पर बोलता है माता पिता और जनता कोर्ट का फ़ैसला आने तक करे इंतेज़ार
ताकि तब त्क और बचो को फँसा कर अपने धंधे को बड़ा सके, पर अपनी उमीदो पर पानी फिरते देख हो गया है बेकरार
पोलीस की इंक्वाइरी वाले सस्पेक्ट्स को वॅकिल देता है और करता है तकरार, नारको टेस्ट जानो को करता है इनकार, पर आरोप लगाने वेल सारे हैं नारको के लिए तैयार
बचो को घर क्यूँ नहीं भेजता , आसाराम को मामला ठंडा पड़ने का है इंतेज़ार
बसस के नाम पर क्या क्या

बाल संस्कार केंद्र में क्या यह सिखाते हैं, खुद ही कहते है बचे ही बचो का गला दबाते हैं
नहीं मानते अपराधी आसाराम उनको कोई संस्कार सिखाएगा
पहले तो हज़ारों रुपैया फिस के नाम पर ले रहा है , फिर बड़े होने पर उनको भी भंधुआ मज़दूर बनाएगा
किसी भी बेटे को यह तो सीखा सका की बाप मरता है तो बेटे को कंधा देने शमशान जाना होता है
मा बाप के पालन पोषण का क़र्ज़ बेटे को उनके बुडे होने पर बेटे को उनकी सेवा कर चुकाना होता है
बच गयी लखो लोगो की ज़िंदगी जिन्होंने , जिसने समझ कर आसाराम की खबर देखी
बचो की लाशों पर असाराम की झूठी टिपडीया और मा बाप को सालों से अपने ही बचो से ना मिलने देने की खबर देखी
कौन साजिश रच रहा है ? आसाराम का घिनोना चेहरा तब सामने आया, जब एक रोटी बिलखती मा को 14 साल से अपने बेटे से नहीं मिलवाया
आज भी उसका बेटे को आसाराम ने नोट गिनने के काम मे लगा रखा है, अरे मैं तो भेजता हू वो नहीं जाता, मीडीया में कहता फिरता है
दुनिया बेवकूफ़ नही है जो तेरे च्क्कर में आएगी, जिस दिन तेरी कोर्ट की तारीख पड़ी तेरी उसी दिन वॉट लग जाएगी
अभी तो तू नोट बाँटने के नाटक कर रहा है, तेरे सारे काले धंधे का धन तुझे नहीं बचा पायगा जिस दिन तेरा वॉरेंट पोलीस लाएगी
आसाराम ने आजतक कितने ही माता पिता का सुक्ख चैन छीना, अगर तुम भी आ जाते इसकी चतुराई में तो भूल जाते मारना और जीना
असाराम ने की एक और नये शड्यंतर करने की तेयारी, अपना भांडा फूटन के डर से इसने दिखाई होशियारी
अपनी ही तारीफ लिखवा कर ही अपनी ही अख़बार छपवा कर भले लोगो को गुमराह करने की कोशिश की जारी,
अत्याचारी और घमंडी आसाराम ने अपने अश्रमो से सताए परिवारों को बदनाम करने की कोशिश की
मीडीया ने भी सचाई दिखा कर , कलयुगी असाराम ढोंगी का अत्याचार
इस ने भले लोगो की आत्मा बहुत दिखाई
मुह काला

more coming soon

October 28, 2008

आसाराम बापू संत वंत नहीं बैंक है पहले तो सिर्फ़ ब्याज पे देता था अब बाटने के चकर में है क्योंकि धंधे में डेंट है

आसाराम ने जनता कम होती देख एक नया पेंतरा फेंका

जोधपुर में गरीब लोगो को अपनी नौटंकी में आकर नोट लेजाओ का न्योता भेजा 

जनता फिर भी बहुत कम जुटी 

पड़े लिखों की भीड़ कम देख आसाराम की ऑंखें रह गयी फट्टी

एक आदमी आया था वहां सोच कर मिलेगी यहाँ रोटी 

पर  आसाराम  ने एक ही मिनट में करदी बाटने वाली दुकान की छुटी 

कहाँ सारे सारे दिन के प्रोग्राम के पोस्टर चप्वाता  

अब तो नोट बटने के न्योते पर भी कोई नहीं आता 

अगर बिना कैमरा के सामने कोई आदमी रोटी लेजाता 

फिर अपनी ही बनाई गूंडा सेना से उसकी पिटाई करवाता 

अपना रॉब ज़माने के लिए एक ६० साल के आदमी की उठक बैठक करवाता 

दुनिया भर के सामने किसी भी आदमी को पिटवाता 

यही हाल है उसका जो इसके आश्रम से नहीं निकल पाता

सालों से बंद है इसके आश्रम में चाह कर भी माँ को माँ नहीं बुला पाता

नयी पीड़ी भी आने वाली थी इसके चकर में 

लोगो के खून और पसीने को आसाराम डकार जाता है 

कैमरे के सामने नोट बटने के लिए नोटों की गढिया लहराता है 

पर पुराने कितने ही कम करने वालों ने  इस पर केस ठोक रखें है 

उनके सालों के परिश्रम के वेतन दबाकर रोक रखें है 

बाप बेटा 5,000 रुपी बाँट कर 4 करोड़ एक दिन में कमा लेते हैं 

अमीर लोग अंधविश्वास में आसाराम को करोडो रुपए दे देते हैं 

पर अब जब से आसाराम की खुली है पोल 

आसाराम का दिमाग हो गया है डावांडोल 

हमारी साईट हर आदमी खुल कर देखने आत्ता है 

पर आसाराम का पर्चारक चुम्चा चुप चाप कर अपनी खुली पोल पड़ कर चला जाता है 

आसाराम को हमारी ख़बर सुन कर थरथराता है 

अपनों ने ही उसकी पोल खोल दी सोच सोच कर घबराता है

अगर अजय को उसकी माँ के पास बेझ दिया तो वोह क्या पोल खोलेगा इससे आसाराम घबराता है 

एक माँ ने बोला था मेरा बेटा भेज दो मेरा बुरा हाल है 

पर आसाराम ने बोला यह साजिश है क्रिस्टियन  इसाई मिशनरी की चाल है 

अरे माँ क्रिस्चियन नहीं पंडत है, बेटा माँ का अंग है 

हर परिवार जिसने अपना बेटा तेरे झांसे में खोया है तुझसे तंग है 

अब यह तो दिख ही गया है आसाराम संत वंत नहीं कंस है.

 

This is real incident of jodhpur on 25 th nov 2008 & story was relayed by major TV chancels in India.

Story has been written by ex inmate of asaram jail.

The video of the person who was beaten & was told to do uthak baithak like this is police station. asaram is judge. Same way asaram had ordered his ex security guards to murder number of people. His son’s current securit y guard was told by father son duo to murder Mr. Mahender Chawla of panipat.

These are tales of people which you have seen with your eyes, but as ex inmate we have witnessed criminal activities of asaram every single day. Each individual you see in asaram factory was hired by luring but then was told to sign a document, if you don’t do it then they beat you and person lives under fear.

 

Asaram ashrams are jail where rapes, sexual exploitation is common in front of hundreds of people but even witnesses will keep quite. As we are told by asaram when we used to speak truth about criminal activities inside his ashram among ourslef, or even now when truth comes out of his ashram , asaram prints in his magazine to lure his disciples that ::::  sant ka nindak maha hatyara, sant ka nindak ko parmeshwar maar deta hai.   But here We are alive & happy since we are out, because asaram is not a sant he is exploiter who uses people to make his Dhoop Agarbattis and other products then exploits us to sell them. All is done in the name of religion, thousands of crores is hidden in ashrams in cash in tires, and in underground tehkhanas of number of ashrams.

 

Video coming soon.

October 25, 2008

आसाराम बापू ने एक और परिवार का बचा छीना अपनी फैक्ट्री में बंधुआ मजदूर बनाने के लिए

आसाराम बापू ने एक और परिवार का बचा छीना अपनी फैक्ट्री में बंधुआ मजदूर बनाने के लिए  

Punjab, sangrur, 23 yr old son brainwashed by asaram bapu to work as slave in his factory.

Parents have been going around & around as in all cases of ashram.

Britishers left india over 60 yrs ago, slavery in india was supposed to finish, Mahatma Gandhi the original bapu was against slavery, But dhonghi who calls himself as bapu, people like asaram have found a method to keep slaves in the name of relgion

 

Want to understand how they brainwash people in ashram then  शैतान बना आसाराम  ebook can be downloaded from SHAITAN BANA ASARAM link.

this book is good if you want to study how asaram brainwashes people & keep them in his ashram.

This book was written by ex inmates of asaram who lived in his ashram.

आसाराम बापू बहरा हो गया है आसाराम एक निहायत ही ढीठ इंसान है

 

Ajay sharmas mothers apeeal to save life of her son

Sambhaav Metro article in ahmedabad news paper on 25th Oct 2008. Ajay sharmas mothers apeeal to save life of her son

आसाराम बापू बहरा हो गया है ! पुरे भारत ने सुना पर आसाराम ने नहीं सुना की एक माँ ने आसाराम को अपने बेटे को छोड़ने के लिए गुहार लगाई है ! आसाराम ने अपने परवचन के तमाशे में बकवास कर यह कहा की मेरे पास तो अजय जैसे करोडो लोग है तो मैं तो अजय को ख़ुद घर भेजता रहता हूँ पर शायद तीन महीने से माँ उसके आश्रमों के चाकर लगा कर चीख चीख कर कह रही है मेरे बेटे की जिन्दगी बख्श दो पर आसाराम एक निहायत ही ढीठ इंसान है जिसकी करनी और कथनी में बहुत फरक है ! पूरा समाज माता जी से सहानुभूति रखता है और माँ का दर्द समझ सकता है ! यही होता है बचो के साथ जो आश्रम में कोल्हू के बैल की तरह काम कराने के लिए रखे जाते हैं फिर उनको तनख्वाह तो छोड़ो अपनी जान से भी हाथ धोना पड़ता है

October 24, 2008

हत्या के बाद मृतक की लाश के साथ खिलवाड़ और विक्टिम परिवार के साथ धोखे से राजनीती का खेल खेलना आसाराम बापू की पुराणी आदत है

Asaram bapu spread this rumors in most cases that parents of dead childrens took the money so they are quite. but in most of the murders in all of his ashrams have another story to tell which is never told in media as victims family don’t have a voice.

आसाराम का २५००० करोड़ रुपैया काम आता है उसके गुनाहों को छुपाने में सिर्फ़ भ्रष्ट कर्मचारी गवर्नमेंट के जो आसाराम की मदद करते है और पीड़ित परिवार को नयाय नहीं मिलता , यह रित है आसाराम के गुनाहों की ४० साल का अपराधिक इतिहास है आसाराम का 

 

‘Victims Of Black Magic’

The parents of the two children found dead near Asaram Bapu’s gurukul are not convinced by the ashram’s explanations or the police investigation, reports TUSHA MITTAL

In Mourning The parents of the dead children hold 

 

The parents allege that the police did not collect any valuable on-site evidence. Initial reports claimed “drowning” was the cause of death — in 1.5 feet of water. The missing heart was supposed to have been the work of an animal, but there were no other marks. “I think the children have been victims of black magic, they have been used as sacrifice,” Praful Vadega told TEHELKA. “Abhishek was born with his feet out first. It’s said black magic shows better results on such a child. And this happenend on the night of amavasya,” says Abhishek’s father, Shanti Vadega. “The Gujarat government and police are in Asaram’s pocket, hence no proper investigation is being done,” he added.

After Praful decided on to go on a fast, he was approached by a local RSS member and asked to meet the chief minister. “Modi called for sharbat, and requested us to drink. We couldn’t refuse. He also called a photographer to document the breaking of my fast,” Praful adds. He says Modi told him: “I’ll give you even better investigation than the CBI. You will have to trust me.” And ordered a judicial enquiry.

 

http://www.tehelka.com/story_main40.asp?filename=Ne160808victimsofblack.asp

Of God And Other Demons – Tehelka article

Of God And Other Demons

After mysterious deaths at Asaram Bapu’s gurukul, people are now making charges of landgrabbing

TUSHA MITTAL
Ahmedabad

Power Guru Asaram Bapu has strong links with politicians
http://www.tehelka.com/story_main40.asp?filename=Ne160808ofgodandotherdemos.asp

Remove asaram ashram from my land and create government college

एक करोड देने को तैयार गोंडह्ववाना

23 Aug, 2008 | 11:09 PM

छिंदवाडा । शक्ति हाउस की जमीन पर यदि सरकार मेडिकल कालेज बनाए तो गोंडवाना एक करोड की राशि देने को तैयार है। शक्ति हाउस में संत आसाराम बापू का आश्रम है। 
पिछले दिनों आश्रम में दो बच्चों की मौत के मामले के बाद गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने शक्ति हाउस की जमीन को मुद्दा बना लिया है। आदिवासी राजघराने की इस जमीन की वापसी के लिए गोंडवाना ने यह रणनीति बनाई है। इसको लेकर गोंडवाना 5 सितंबर को जिला मुख्यालय में आंदोलन करने की घोषणा भी कर चुकी है। गोंडवाना के प्रवक्ता नेहरू परतेती और अनीस खान ने बताया कि शक्ति हाउस की जमीन आदिवासी समाज की है। इस जमीन पर संत आसाराम बापू का आश्रम है। आश्रम प्रबंधन कहता है कि जमीन उसे दान में मिली है, लेकिन गोंडवाना इस जमीन का उपयोग जिले के हित में करना चाहती है। 
गोंडवाना आश्रम की जमीन पर मेडिकल कालेज खोलने की मांग सरकार से कर चुकी है। मेडिकल कालेज के लिए गोंडवाना एक करोड की राशि देने को भी तैयार है। इस जमीन को लेकर पहले भी गोंडवाना ने आंदोलन किए है लेकिन आश्रम के सुर्र्खयों में आने के बाद गोंडवाना का यह एक नया पैतरा इसमें कामयाबी मिलेगी या नहीं यह भविष्य की गर्त में है। फिलहाल गोंडवाना इस मुद्दे पर आंदोलन की तैयारी में है।

 

http://www.rajexpress.in/newsindetail.htm?newsId=33360&slotId=124

Child brainwashing in the name of Bal Sanskar Kendra by Pedophile asaram bapu

आसाराम गुरुकुल में उत्पीड़न, मामला दर्ज
इंडो-एशियन न्यूज सर्विस
इंदौर, रविवार, अगस्त 31, 2008

संत आसाराम बापू का एक आश्रम फिर चर्चा में आ गया है, और वह है मध्यप्रदेश के इंदौर का गुरुकुल। यहां के एक छात्र ने प्रताड़ित किए जाने का आरोप लगाते हुए भंवर कुआं थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है।  
मिली जानकारी के अनुसार खंडवा का रहने वाला गौरव चौहान गुरुकुल में पांचवी कक्षा का छात्र है। छात्र का आरोप है कि सुबह चार बजे उसे तथा गुरुकुल में पढ़ने वाले अन्य छात्रों को मारपीट कर उठाया जाता है और ठंडे पानी से नहाने को मजबूर करने के बाद आसाराम बापू की पूजा करने को बाध्य किया जाता है।  
छात्र की ओर से दर्ज कराई गई शिकायत पर भंवर कुआं थाना पुलिस ने प्राचार्य शशांक सिंह के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। थाना प्रभारी बी  कुशवाहा के अनुसार छात्र की शिकायत पर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। गौरव के रिश्तेदार ने भी गुरुकुल प्रबंधन पर आरोप लगाए हैं। गुरुकुल के प्राचार्य शशांक सिंह ने सारे आरोपों को नकारते हुए छवि बिगाड़ने की कोशिश का आरोप लगाया है

— 9 yr old boy lying and must be getting paid by geroge bush, to malign asaram bapu, as asaram bapu says “विदेशी ताकते मुझे बदनाम करने की कोशिश कर रही हैं”.   Each & every word asaram says is lies.  people have told the proofs of thier sons/ daughters being kep in ashram, some were found in ashram but they are brainwashed. Asaram is not only arrogant, but liar, & pedophile. If any victim goes to file FIR , first polcie stations don’t take FIR against such criminals as they will need to answer to politicians, then if due to media pressure they took FIR  cases are made weak.   Asaram downfall had begin and his cult is ending. he is making desperate attempts to malign victims itslef, instead of sending brainwashed fanatics back to their families.

 

child brainwashing in the name of bal sanskar kendera by Pedophile asaram bapu

 

We should preserve our hindu sanskiriti by teaching our childrens about hindusim, & respect for elders, and beware of criminals who have opened centers for their own sexual needs. there have been previous incidents where as guru ages he moves form women to childrens sexual exploitation. same is happening with asaram now.

Asaram is trying now to brainwash people from the childhood, and the people who are brainwashing these children in local samiti or in ashram are people who are already brainwashed by asaram.  So called shikshak asaram has hire are people who are not paid for years.

 

 

This way asaram can teach the child from early age why a guru is important. These child wil become Ajay sharma of tomorrow. 

What asaram teaches in real & what he portrays to be teaching are opposite poles.

asaram made CD of these children and showing on his site, it;s so pathetic that all these childrens are doing sing song of gurudev, guruji, i can lkill me for gurudev, i can kill myself gor gurdev. See asaram has nothing to teach a student, Bal sanskaar kendra a re a method to brainwash children from early stage as they are more suscptible for suggestions. if asaram ashrams and his activities are not stopped then All these childrens will become fanatic like Ajay, who will have no repsect for their parents, no respect for law, no respect for other people lifes. The only thing they will kow is to sing a songs of asaram as their god and asaram as thier saviour.

 

Asaram’s greed of power & money even after 25,000 crores of ruppess & ruining lives of hundreds of thousands of people & wasting thier time by doing their dhayan for him has now diverted to childrens. After being exposed of his sexual exploitation by his female devtoees, his 

 

One of the ex-inmate named Dharmesh told that Pedophile asaram work hard at stalking their targets and will patiently work to develop relationships with them. It is not uncommon for asaram to be developing a long list of potential victims at any one time. Asaram bapu & his son narayan along with his brainwashed fanatics believe that what they are doing is not wrong and that having sex with a child is actually “healthy” for the child.

 

Some of the parents are then persuaded to have their children join his gurukul, which is a total disaster for child life. Children are told to dhayan of asaram for 4 hours per day. Then they are given books written by asaram to read in which each & every page even each paragraph indirectly or directly suggests that why without asaram as guru your life & society’s life is hell. Once these children will become adults they will become fanatic like blind followers whose parents are crying for theri kids. Ther fact is the so called teachers in these gurukuls are uneducated brainwashed disciples, who once were recruited by asaram on the salary of Rs.6,000 – Rs. 9,000 per month, but once they joined or even before joining asaram told them to live in ashram and then gave them guru chalisa asaramayan & did psychological manipulation in the name of guru BS. once they became blind follower after keeping some Poonam Vrata, he told them to sign a contract called ajjevan sewa (ajeevan karawaas), means now they dedicate their life to asaram to whatever he says. Blind’s leading blind in bal sanskar kendra, when will government will wake up. People have woken up, government & social organizations & schools need to wake up for humanity & well being of childrens of india & save them from  Pedophile asaram bapu.

 

Pedophile asaram bapu is fielding some videos of people who are brainwashed by asaram speaking that asaram has changed their life, asaram has full team of camera people who os recording these videos to promtoe asaram in response to victims who are alledging that asaram is  Pedophile, and asaram school business or factories run by asaram are run by people who were brainwashed by asaram number of years ago. All families of those people are against asaram.

http://hindi.webdunia.com/news/news/mpchg/0809/01/1080901009_1.htm

आसाराम गुरुकुल पर प्रताड़ना का आरोप 
 
 
 
 
 
 
 
खंडवा रड स्थित संत आसाराम गुरुकुल में पढ़ने वाले एक छात्र के परिजनों ने विद्यालय में उसके साथ मारपीट और प्रताड़ि‍त करने का आरोप लगाते हुए प्राचार्य के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है लेकिन प्राचार्य ने ऐसे आरोपों को मनगढ़ंत बताते हुए इससे इनकार किया है।     

पुलिस के अनुसार रविवार दोपहर योगेंद्रसिंह निवासी कैलाश पार्क अपने भतीजे गौरवसिंह चौहान पिता जितेंद्रसिंह मूल निवासी खंडवा को लेकर थाने पहुँचे और गुरुकुल में उसके साथ मारपीट करने और जबरन रोके रखने की शिकायत की।

उन्होंने पुलिस को बताया कि गौरव गुरुकुल में पाँचवीं का छात्र है। उसे सुबह चार बजे उठा दिया जाता था। न ठीक से खाना दिया जाता था और न ही घर आने देते थे। हमने जब टीसी के लिए आवेदन किया तो हमसे पूरे वर्ष की फीस जमा करवाने के बाद टीसी देने की बात कही गई।

सभी आरोप झूठे- उधर, गुरुकुल के प्राचार्य सुशांतसिंह ने सभी आरोपों को सरासर गलत बताया। उन्होंने कहा कि 29 अगस्त को बच्चे के पिता विद्यालय आए थे और उन्होंने बच्चे की दादी की तबीयत खराब होने की बात कहकर टीसी के लिए आवेदन दिया था।

हमने एक दिन का समय माँगते हुए सोमवार को उन्हें टीसी देने की बात कही थी लेकिन बाद में बच्चे के रिश्तेदार योगेंद्रसिंह यहाँ पहुँचे और मेरे व अन्य शिक्षकों के साथ अभद्र व्यवहार किया। प्राचार्य ने आरोप लगाया कि उन्होंने यहाँ तक कहा कि वे स्थानीय हैं, स्कूल की बस भी रोक लेंगे। उस वक्त सारे बच्चे और शिक्षक भी मौजूद थे।

भँवरकुआँ थाना प्रभारी ब्रजेश कुशवाह ने बताया कि शिकायत के आधार पर प्राचार्य के खिलाफ अभद्र व्यवहार और धमकाने आदि के तहत प्रकरण दर्ज कर लिया गया है। मामले की जाँच की जा रही है। (

Next Page »

Blog at WordPress.com.